Essay On Art In Hindi

कला और रचनात्मकता / Arts and Creativity

कलाओं में भाग लेकर अपंग लोग हमारे कार्यस्‍थलों एवं समुदायों को बहुत योगदान देते हैं, अपंगता की बाबत पुरानी घिसी-पिटी बातों को दफन करने में सहायता करते हैं और समस्‍त लोगों का वास्‍तव में प्रतिनिधित्‍व करने वाली वैश्विक संस्‍कृति का निर्माण करते हैं।

कलाएं अनेक तरीकों से जीवन की गुणवत्‍ता में वृद्धि करती हैं। वे बच्‍चे की शिक्षा की शुरुआत से वयस्‍क होने और कैरियर के समय तक व्‍यक्तिगत एवं शैक्षणिक सफलता दोनों को ही बेहतर बनाती हैं। प्राथमिक स्‍कूल के वे विद्यार्थी जो कि संगीत कार्यक्रमों में भाग लेते हैं, पठन-पाठन, गणित, भाषा और समग्र उपलब्धि परीक्षणों में बेहतर प्रदर्शन करते हैं। हाई स्‍कूल में कला की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थी परीक्षण में बेहतर प्रदर्शन करते हैं। स्‍टूडियो आर्ट पाठ्यक्रमों में पढ़ाई करने वाले विद्यार्थी अपनी लिखावट और शब्‍दभंडार कौशलों में सुधार लाते हैं। ये निष्‍कर्ष अपंग लोगों समेत समस्‍त लोगों के जीवन को सकारात्‍मक ढंग से गढ़ने में कला के मूल्‍य को रेखांकित करते हैं। चूंकि कला अनंत एवं बिना शर्त वाला क्षेत्र है इसलिए अपंग लोग शारीरिक, सामाजिक या रवैयागत अवरोधों के बिना स्‍वयं को अभिव्‍यक्‍त करने के लिए स्‍वतंत्र हैं।

कला सार्विक भाषा है जिसमें कि समस्‍त लोगों को एकजुट करने की क्षमता होती है। आर्ट्स एंड क्रिएटिविटी लिंक्‍स (इस पन्‍ने के ऊपर दाएं संस्‍तुत वेबसाइटों पर क्लिक करें) उन संगठनों को जोड़ते हैं जो कि विजुअल आर्ट्स, संगीत, रंगमंच और नृत्‍य में भागीदारी को प्रोत्‍साहित करते हैं।

स्रोत : वीएसए

कला और संस्कृति

किसी भी देश के विकास में कला का महत्‍वपूर्ण योगदान होता है। यह साझा दृष्टिकोण, मूल्य, प्रथा एवं एक निश्चित लक्ष्य को दिखाता है। सभी आर्थिक, सामाजिक एवं अन्य गतिविधियों में संस्कृति एवं रचनात्मकता का समावेश होता है। विविधताओं का देश, भारत अपनी विभिन्न संस्कृतियों के लिए जाना जाता है।

भारत में गीत-संगीत, नृत्य, नाटक-कला, लोक परंपराओं, कला-प्रदर्शन, धार्मिक-संस्कारों एवं अनुष्ठानों, चित्रकारी एवं लेखन के क्षेत्रों में एक बहुत बड़ा संग्रह मौजूद है जो मानवता की 'अमूर्त सांस्कृतिक विरासत' के रूप में जाना जाता है। इनके संरक्षण हेतु संस्कृति मंत्रालय ने विभिन्न कार्यक्रमों एवं योजनाओं को कार्यान्वित किया है जिसका उद्देश्य कला-प्रदर्शन, दर्शन एवं साहित्य के क्षेत्र में सक्रिय व्यक्तियों, समूहों एवं सांस्कृतिक संस्थानों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है।

इस खंड में भारत की सांस्कृतिक विरासत, प्राचीन स्मारकों, साहित्य, दर्शन, विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों, कला-प्रदर्शनों, मेले, त्यौहारों एवं हस्तकला के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई है। भारतीय कला एवं संस्कृति के उन्नयन एवं प्रचार-प्रसार में शामिल विभिन्न संस्थाओं की जानकारी भी यहाँ प्रदान की गई है।

0 Replies to “Essay On Art In Hindi”

Lascia un Commento

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *